छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के बेटे एवं पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के ख़िलाफ करोड़ों की धोखाधड़ी के मामले में एफआईआर दर्ज की गई है। अभिषेक के अलावा इस मामले में 20 अन्य लोगों के खिलाफ़ भी केस दर्ज किया गया है, जिनमें राजनांदगांव क्षेत्र के पूर्व सांसद मधुसूदन यादव और पूर्व महापौर नरेश डाकलिया का नाम शामिल है।

अभिषेक समेत इन सभी लोगों के ख़िलाफ़ जिस मामले में एफआईआर दर्ज की गई है वो अनमोल इंडिया नामक चिटफंड कंपनी द्वारा किए गए करोड़ों के घोटाले से जुड़ा है। अभिषेक पर आरोप है कि उन्होंने घोटाला करने वाली कंपनी अनमोल इंडिया का जनता के बीच अनेकों बार प्रचार-प्रसार किया था और उन्हीं के नाम पर लोगों को यकीन दिलाया गया था कि यह कंपनी सुरक्षित है।

चिटफंड कंपनी के ठगी के शिकार लोगों द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि अनमोल इंडिया कंपनी निवेशकों से कुछ महीनों में उनका पैसा दोगुना करने का आश्वासन देती थी, लेकिन ऐसा कोई भी लाभ निवेशकों को नहीं मिला। इसके बजाय 2016 में कंपनी ने कई लाख रुपये की धोखाधड़ी कर कामकाज बंद कर दिया।

शिकायत में कहा गया है कि हम लोगों ने इन्ही स्टार प्रचारकों, जिनमें अभिषेक सिंह का नाम शामिल है के बहकावे में आकर निवेश किया था जिसके बाद कंपनी उनकी मेहनत की कमाई लेकर फरार हो गई है।

अंबिकापुर जिला अदालत के विशेष न्यायाधीश बी पी वर्मा ने सम्बंधित थानों को चिटफंड कंपनी के ठगी के शिकार लोगों द्वारा की गई शिकायत के आधार पर जांच करके जल्द से जल्द अंतिम प्रतिवेदन प्रस्तुत करने को कहा था, जिसके बाद आज मामला दर्ज कर लिया गया।

वहीं, अभिषेक सिंह ने कंपनी से किसी भी तरह का ताल्लुक होने की बात से इनकार किया है। उन्होंने कहा, ‘मेरा इस कंपनी से कभी कोई वास्ता नहीं रहा. यह मामला अदालत में टिक नहीं पाएगा।’