chetan bhagat
Famous writer Chetan Bhagat on Citizenship Law

देशभर में छात्रों द्वारा नागरिकता कानून का विरोध किया जा रहा है। कई जगहों पर छात्रों के इस विरोध को सरकार बलपूर्वक रोकने की कोशिक कर रही है। जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) यूनिवर्सिटी और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में छात्रों के प्रदर्शन को रोकने के लिए पुलिस द्वारा उनकी बेरहमी से पिटाई की गई। छात्रों के ख़िलाफ़ की जा रही ऐसी कार्रवाई का जाने माने लेखक चेतन भगत ने विरोध किया है।

इस मामले को लेकर उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार पर ज़ोरदार हमला बोला है। चेतन भगत ने ट्विटर के ज़रिए कहा, “अर्थव्यवस्था को संकट में डाला, रोजगार देश से गायब हो रहे हैं, इंटरनेट कई इलाकों में बंद पड़ा है। पुलिस को लाइब्रेरी में भेजा जा रहा है। अब तक तो युवाओं ने धैर्य बनाए रखा है लेकिन कोई भी उनके इस धैर्य का इम्तिहान ना लें”।

चेतन भगत (Chetan Bhagat) को मोदी सरकार के समर्थक के रूप में देखा जाता है। लेकिन उन्होंने ये साफ़ कर दिया है कि वह सरकार के हर फैसले के साथ आंख बंद करके खड़े नहीं हो सकते। उन्होंने आगे कहा, “GST, 370 और CAB जैसे कई मुद्दे हैं जो बताते हैं कि देश में मोदी सरकार में यसमैन की एक ऐसी सेना है जो हर बात पर हां में हां मिलाती है। वास्तिक हालात के बारे में कोई नहीं सोच रहा है”।

चेतन भगत (Chetan Bhagat) ने दूसरे ट्वीट (tweet) में कहा, ”यहां कई लोग मेरी राजनीति को लेकर भ्रमित हो गए। साफ कर दूं कि मैं सिर्फ ऐसे भारत में रुचि रखता हूं, जहां हर कोई भाईचारे से रहे और हमारी इकनॉमिक ग्रोथ शानदार हो। यह मेरा सपना है। एकतरफा समूह मुझे बोर करते हैं। मैं आपके तय पक्ष की तरफ नहीं हूं। मैं भारत की तरफ हूं और मुझे इस पर गर्व है।”

मोदी सरकार के ख़िलाफ़ बोलने के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है। जिसके जवाब में उन्होंने एक और ट्वीट किया है। चेतन भगत ने लिखा, “जो लोग एक हिंदू राजा और उसके अधीन विषयों के साथ भारत के बारे में कल्पना करते हैं, वो याद रखें। यहां तक कि अगर मैं आपकी धर्मांधता का समर्थन करूं जो मैं नहीं करता, तो आप 20 करोड़ मुसलमानों को भगा नहीं सकते”।

जामिया छात्रों के समर्थन में उतरे राजकुमार राव, कहा- मैं पुलिस की हिंसक कार्रवाई की निंदा करता हूं

उन्होंने कहा, “अगर आप ऐसी कोशिश करते हैं तो भारत जल जाएगा, जीडीपी औंधे मुंह गिर जाएगी और आपके बच्चे असुरक्षित और बेरोजगार हो जाएंगे। ऐसी कल्पना करना बंद करें!”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here