कहते हैं कि वक़्त अच्छा हो या बुरा उसकी एक ख़ासियत है कि वो गुज़र जाता है, और किसी के बुरे वक़्त में उसका मख़ौल करने वाले, उसका मज़ाक उड़ाने वालों के मुँह पर ज़ोरदार तमाचा भी वक़्त ही लगाता है।

कुछ ऐसा ही हुआ आज अमित शाह की प्रेस कॉन्फ़्रेंस में। राफ़ेल विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के आए फ़ैसले के कुछ ही देर बाद अमित शाह ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस की,

जिसमें उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राफ़ेल मामला उठाने के लिए ख़ूब खरी-खोटी सुनाई।

सबरीमाला और राम मंदिर पर ‘सुप्रीम कोर्ट’ के फैसले में सवाल खड़ा करने वाले अमित शाह और भाजपाई आज प्रसन्न है

लेकिन इस बार उन्होंने राहुल गांधी को हर बार की तरह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी न कहकर कांग्रेस अध्यक्ष ‘श्री राहुल गांधी जी’ कहा।

इस पर वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने तंज कसते हुए सोशल मीडिया पर लिखा, ‘ओबीसी राजनीति के बारे में मुझसे दर्जनों सवाल पूछने और मुझसे असहमत होने के बाद राहुल गांधी ने मेरे एक सवाल के जवाब में कहा था, ”मेरी पप्पू वाली इमेज बनाने के लिए बीजेपी-आरएसएस ने 1 हज़ार करोड़ रुपये ख़र्च किए हैं।”

50 साल सत्ता में रहने का दावा करने वाले अमित शाह 5 राज्यों में हार के बाद सदमे में! नहीं गए ‘गीता महोत्सव’

यह कहकर राहुल हंस पड़ें।

आज अमित शाह ने अपनी प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, फिर न जाने क्या सोचकर कहा- कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी जी।

आज फिर राहुल गांधी के हंसने का दिन है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 − eleven =