• 3.3K
    Shares

मुंबई में गुरुवार शाम छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसटी) स्टेशन के पास फुटओवर ब्रिज गिरने से मलबे में दबकर 3 महिलाओं समेत 6 लोगों की मौत हो गई जबकि 36 लोगों के घायल हो गए। घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है, जो अपनी ज़िंदगी की जंग लड़ रहे हैं।

हादसे के बाद मुंबई पुलिस ने बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) और भारतीय रेलवे के अधिकारियों के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। हालांकि बीजेपी इसे व्यवस्था की चूक मानने को तैयार नहीं है। बीजेपी की प्रवक्ता संजू वर्मा का कहना है कि इस हादसे के लिए व्यवस्था नहीं बल्कि ब्रिज पर चलने वाले जिम्मेदार हैं।

एक समाचार चैनल पर डिबेट के दौरान BJP प्रवक्ता संजू वर्मा ने मुंबई फुटओवर ब्रिज गिरने की घटना को ‘प्राकृतिक आपदा’ बता दिया। प्रवक्ता ने कहा कि, “लोगों को मालूम था कि फुटओवर ब्रिज पर काम चल रहा है इसके बावजूद लोग ब्रिज पर गए और यह हादसा हो गया। यह एक प्राकृतिक आपदा है”।

BJP प्रवक्ता बोलीं- मुंबई ब्रिज हादसे के लिए सरकार नहीं ब्रिज पर चलने वाले जिम्मेदार हैं

संजू वर्मा के इस बयान पर यूट्यूबर ध्रुव राठी ने दुख जताते हुए तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “मुंबई ब्रिज हादसे में आज 5 लोग मर गए। बीजेपी प्रवक्ता इसे ‘प्राकृतिक आपदा’ बताती हैं। फोटो को देखें, क्या यह किसी भी कोण से प्राकृतिक आपदा की तरह दिखता है? लेकिन खुशी है कि उन्होंने नेहरू को इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं ठहराया”।

बताया जा रहा है कि यह हादसा ब्रिज पर ओवरलोडिंग की वजह से हुआ। बीएमसी आपदा नियंत्रण ने कहा,  “यह घटना गुरुवार शाम 7.35 पर तब घटी, जब पुल पर जरूरत से ज्यादा लोगों का वजन बढ़ गया”। बता दें कि पिछले 18 महीनों में शहर में फुटओवर ब्रिज गिरने गिरने की यह तीसरी घटना है।

इसके साथ ही यह बात भी सामने आई है कि बीएमसी ने तीन दशक पुराने इस ब्रिज का छह महीने पहले ही निरीक्षण किया था, जिसमें ब्रिज को इस्तेमाल के लिए सेफ़ बताया गया था।