bsnl mtnl
BSNL MTNL

प्रधानमंत्री अपनी सुरक्षा के लिए हर रोज 1 करोड़ 62 लाख रुपया खर्च करते हैं, वही दूसरी तरफ देश की सबसे बड़ी सरकारी टेलीकॉम कम्पनी बीएसएनएल (BSNL) और एमटीएनएल (MTNL) के कर्मचारी को पिछले दो महीने से वेतन तक नहीं दे रहे है।

ऑल इंडिया यूनियंस एंड एसोसिएशन ऑफ बीएसएनएल के संयोजक पी अभिमन्यू ने कहा कि कर्मचारियों को दिसबंर 2019 और जनवरी 2020 का वेतन अभी तक नहीं मिला है। उनका कहना है, “हमें दो महीने से और जो कांट्रेक्ट पर है उन्हें पिछले 10 महीने से सरकार ने वेतन का भुगतान नहीं किया है।

हम सरकार से बस इतना कहना चाहते है कि हमें वेतन दे, हम बहुत परेशान है, बच्चों का स्कूल फीस भी देना मुश्किल हो रहा है। साथ ही हम मोदी जी से अपील करना चाहेंगे कि जल्द से जल्द बीएसएनएल की 4जी सेवाएं भी शुरु करें।

जवानों को कपड़े-जूते न दे पाने वाले मोदी अपनी सुरक्षा पर रोज खर्च करते हैं 1.62 करोड़, ये कैसी फकीरी है ?

इसके अलावा पी अभिमन्यू ने सरकार को चेतावनी भी दी है कि अगर सरकार हमारी समस्याएं का समाधान जल्दी नहीं करती है, तो फिर 24 फरवरी से भूख हड़ताल पर जा रहे हैं।

केंद्र सरकार ने घाटे में चल रहे बीएसएनएल और एमटीएनएल का विलय करने का फैसला कर इन दोनों कंपनियों के करीब पौने दो लाख कर्मचारियों के सामने वीआरएस की पेशकश की थी। सरकार की इस पेशकश को बीएसएनएल के 93,000 और एमटीएनएल के करीब 80 फीसदी कर्मचारियों ने मान लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here