दूरसंचार क्षेत्र की सरकारी कंपनी BSNL के कर्मचारियों ने अब मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। BSNL की कर्मचारी यूनियन ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि केंद्र की मोदी सरकार मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को संरक्षण दे रही है।

यूनियन ने दावा किया है कि केंद्र सरकार ने BSNL को 4जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन इसलिए नहीं किया है ताकि वह देश में अपने पैर पसार रही रिलायंस जियों के रास्ते में बाधा ना बन सके।

यूनियन ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि BSNL 4जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम की मांग लंबे वक्त से करती आ रही है। लेकिन सरकार ने उसकी एक नहीं सुनी।

SBI की पूर्व अध्यक्षा ने ज्वाइन किया रिलायंस, लोग बोले- BSNL के बाद अब SBI भी अंबानी के चरणों में

सरकार ने BSNL जैसी सरकारी कंपनियों को मुकेश अंबानी के लिए बर्बाद कर दिया है। वह अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए कुछ भी कर सकती है।

यूनियन का आरोप है कि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो भारत के संपूर्ण दूरसंचार क्षेत्र पर कब्जा करना चाहती है। इसलिए इसने अपनी दरें इतनी कम कर दी है कि बाजार में बाकी कंपनियां बंद होने की कगार पर है।

मुकेश अंबानी पर भाजपा मेहरबान, छत्तीसगढ़ सरकार ने JIO को दिया 1500 करोड़ रुपए का ठेका

यूनियन ने कहा है कि जियो भारत के दूरसंचार क्षेत्र में पूरी तरह कब्जा करने के बाद अपनी दरों में जोरदार बढ़ोतरी करेगी और जनता को लूटेगी।

यूनियन ने ऐलान किया है कि मोदी सरकार और मुकेश अंबानी की इस दोस्ती के खिलाफ वह 3 दिसंबर 2018 से अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। मोदी सरकार जियो को खुले आम संरक्षण दे रही है। इसके खिलाफ अब हम चुप नहीं बठ़ेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here