सोशल मीडिया पर इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक की तस्वीर जमकर वायरल की जा रही है। इस तस्वीर में ज़ाकिर नाइक के साथ एक और शख्स खड़ा नज़र आ रहा है, जिसको लेकर यह दावा किया जा रहा है कि नाइक के साथ खड़ा शख्स श्रीलंका में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों का मुख्य आरोपी है।

इस तस्वीर को BJP नेता एवं रिटायर्ड मेजर सुरेंद्र पूनिया ने भी ट्विटर पर शेयर किया है। उन्होंने इस तस्वीर को ‘दिल के रिश्ते’ कैप्शन के साथ शेयर करते हुए लिखा, “तस्वीर 1- श्रीलंका का आत्मघाती हमलावर उपदेशक ज़ाकिर नाइक के साथ. तस्वीर 2- ज़ाकिर नाइक के साथ कांग्रेस नेता दिग्विजय”।

BJP नेता ने आगे लिखा, “भारत तेरे टुकड़े होंगे / अफ़ज़ल प्रेमी नेता कन्हैया कुमार दिग्विजय सिंह के लिए प्रचार करेगे, कृपया अपने दोस्त ज़ाकिर नाइक से भी स्काइप के ज़रिए भोपाल की रैली संबोधित करने के लिए कहिए”।

केंद्रीय मंत्री बोले- प्रज्ञा ठाकुर को टिकट देना गलत, हेमंत करकरे के पास उनके ख़िलाफ़ सबूत थे

इसके साथ ही बीजेपी के समर्थन वाले कई सोशल मीडिया पेजेस और ग्रुप्स पर इस तस्वीर को इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि तस्वीर में बाईं ओर नज़र आने वाला शख्स आत्मघाती हमलावर है।

लेकिन जब इस तस्वीर की पड़ताल की गई तो सोशल मीडिया पर किए जा रहे दावों को ग़लत पाया गया। फैक्ट-चेक वेबसाइट ब्लूम लाइव के मुताबिक, तस्वीर में ज़ाकिर नाइक के साथ खड़ा शख्स आत्मघाती हमलावर नहीं, बल्कि मलेशिया का एक इस्लामिक उपदेशक मोहम्मद ज़ामरी विनोठ है।

ज़ामरी विनोठ की सोशल मीडिया प्रोफाइल्स को देखने पर पता चलता है कि वो ज़ाकिर नाइक का समर्थक है। उसने जाकिर नाइक के साथ अपनी कई तस्वीरें फेसबुक और ट्विटर पर शेयर की हुई हैं। यहां यह भी बताते चलें कि श्रीलंका में हुए बम धमाकों के तार ज़ाकिर नाइक से जोड़े जा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि हमलावर ज़ाकिर नाइक से प्रेरित थे। लेकिन इस बात की अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं हुई है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर ज़ाकिर नाइक का बम धमाकों से कनेक्शन साबित करने के लिए भारत में क्यों फेक तस्वीर शेयर की जा रही है? क्या बीजेपी इस फेक तस्वीर के सहारे चुनावों में ध्रुवीकरण करने की कोशिश कर रही है?