प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तमाम मंत्री भले ही बेतुके तर्क देकर आर्थिक मंदी की बात से इनकार कर रहे हों, लेकिन अब उनके करीबियों ने मंदी की बात को स्वीकार करना शुरु कर दिया है। योग गुरु बाबा रामदेव ने भी अब मान लिया है कि देश में आर्थिक मंदी है।

एबीपी न्यूज़ को दिए एक इंटरव्यू में बाबा रामदेव ने कहा कि यह जरूर है कि देश आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा है, लेकिन मोदी सरकार इससे निपटने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि अकेले भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मंदी है। ऐसे में इससे निपटने के लिए हमें ताकतवर लोगों की ज़रूरत है। जो नरेंद्र मोदी हैं।

अर्थव्यवस्था सुधारने के बजाए अपनी नाकामी का दोष मुझ पर मढ़ रही हैं वित्तमंत्री निर्मला : मनमोहन सिंह

बाबा रामदेव ने हरियाणा और महाराष्ट्र चुनाव के मद्देनज़र कहा, “सच में आर्थिक चुनौतियां, संकट हैं। ऐसे में और ज्यादा जरूरी है कि राजनीति स्थिरता हो। ऐसे लोग जो देश के बारे में सोचने वाले हों, उन्हें सत्ता मिले। जिन्होंने बड़े-बड़े घोटाले किए हों, देश को तबाह किए हों उन्हें सत्ता नहीं मिले”।

इस दौरान केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कसीदे पढ़ते हुए कहा, “पिछले पांच साल में एक बड़े घोटाले सामने नहीं आए। पूरी दुनिया में आर्थिक मंदी है, ऐसे में भारत पर ज्यादा संकट नहीं आए इसके लिए ताकतवर लोगों की जरूरत है, वो ताकत मोदी सरकार में दिखती है”।

निर्मला बोलीं- मनमोहन और राजन ने बैंकों को किया बर्बाद, इसबार ‘नेहरू’ को नहीं ठहराया जिम्मेदार

बता दें कि मौजूदा समय में देश आर्थिक संकट से जूझ रहा है। कई सेक्टर्स में रिकॉर्ड तोड़ गिरावट दर्ज की जा रही है। देश के विकास दर में भी भारी गिरावट आई है। लेकिन इसके बावजूद कई केंद्रीय मंत्री मंदी की बात को बेतुके तर्क देकर खारिज कर रहे हैं। हाल ही में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था देश में फिल्में ज़ोरदार कमाई कर रही हैं, ऐसे में मंदी की बात को नहीं माना जा सकता।