नरसिंहानंद को दो दिन पहले महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। अब खबर आ रही है कि हरिद्वार धर्म संसद में मुस्लिमों के खिफाल भड़काऊ भाषण देने के मामले में भी भी रिमांड पर लिया गया है। यानी चार्ज बढ़ा दिया गया है।

दरअसल, शनिवार को नरसिंहानंद को महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। एक दिन बाद रविवार को 14 दिन की ज्‍यूडीशियल कस्‍टडी में भेजा दिया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिमांड एप्‍लीकेशन में धर्म संसद हेट स्‍पीच केस का भी उल्लेख है।

बता दें कि नरसिंहानंद से पहले वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र त्यागी को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया था। नरसिंहानंद को गंगा तट पर सर्वानंद घाट से उस वक्त गिरफ्तार किया गया था जब वो उर्फ वसीम रिजवी की गिरफ्तारी के विरोध में ‘सत्याग्रह’ कर रहे थे।

बता दें कि 17 से 19 दिसंबर तक उत्तराखंड के हरिद्वार में चले इस तीन दिवसीय हेट स्पीच सम्मेलन में अल्पसंख्यकों को मारने और उनके धार्मिक स्थलों पर हमला करने का भी आह्वान किया गया था।

वैसे इस तरह के आयोजन में भाजपा नेताओं का शामिल होना कोई आश्चर्यजनक बात तो नहीं है लेकिन फिर भी बता देते हैं कि बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय आतंक के इस समागम में वक्ता के रूप में शामिल थे।

इसके अलावा निरंजिनी अखाड़े की महामंडलेश्वर और हिंदू महासभा की महासचिव अन्नपूर्णा मां, बिहार के धर्मदास महाराज, आनंद स्वरूप महाराज, गाजियाबाद स्थित डासना देवी मंदिर का कुख्यात पुजारी यति नरसिंहानंद, सागर सिंधुराज महाराज जैसे अतिवादी हिन्दू कट्टरपंथी शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × four =