हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2021 की रिपोर्ट के अनुसार अडानी और उनके परिवार ने प्रतिदिन कमाए 1,002 करोड़ रुपये। मुकेश अंबानी 163 करोड़ रुपये हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 202 के अनुसार, भारत में 237 अरबपति हैं। अरबपतियों की बात करें तो भारत दुनिया में तीसरे स्थान पर है। और सबसे तेज दरों में से एक में नए अरबपतियों को जोड़ रहा है। गौतम अडानी और उनका परिवार प्रति दिन सबसे अधिक 1,002 करोड़ रुपये की कमाई, करता है। जिससे वह आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2021 के अनुसार 5.05 लाख करोड़ रुपये के साथ दूसरा सबसे अमीर परिवार बन गया है।
2020 में आखिरी लिस्ट जारी होने के बाद से रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी और उनके परिवार ने हर दिन 163 करोड़ रुपये कमाए है। उनकी कुल संपत्ति 7.18 लाख करोड़ रुपये थी। एलएन मित्तल एंड फैमिली ने 312 करोड़ रुपये कमाए, उसके बाद शिव नादर एंड फैमिली ने 260 करोड़ रुपये प्रतिदिन कमाए। विनोद शांतिलाल अडानी एंड फैमिली ने हर दिन 245 करोड़ रुपये कमाए, जबकि कुमार मंगलम बिड़ला एंड फैमिली ने 242 करोड़ रुपये कमाए। आईआईएफएल हुरुन रिच लिस्ट से पता चलता है कि एसपी हिंदुजा एंड फैमिली, जिसे सूची में चौथा स्थान मिला है, उसने प्रति दिन 209 करोड़ रुपये कमाए है।
रिपोर्ट से पता चलता है कि इस साल भारत के शीर्ष 10 में चार नए चेहरे थे। इस बीच, रिपोर्ट में कहा गया है कि आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2021 में 179 शहरों में 179 में से 1,007 व्यक्तियों के पास 1,000 करोड़ रुपये हैं। कुल 894 व्यक्तियों ने अपनी संपत्ति में वृद्धि देखी या पहले के जैसी ही स्थिति रही, जिनमें से 229 नए चेहरे थे, जबकि 113 ऐसे लोग थे जिनकी संपत्ति में गिरावट आई है और उनमें से 51 ड्रॉपआउट थे। भारत में कुल 237 अरबपति हैं, जो पिछले साल की तुलना में 58 अधिक है।
आईआईएफएल वेल्थ के संस्थापक, एमडी और सीईओ, करण भगत ने कहा कि सूची से प्रमुख तथ्य, वे हैं महिला धन सृजनकर्ताओं का उदय, औसत आयु में कमी और पुणे, राजकोट, सूरत जैसे टायर 2 शहरों को शामिल करना। टॉप 20 में फरीदाबाद और लुधियाना भी शामिल हैं। हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2021 के अनुसार, “आज, भारत में 237 अरबपति हैं, जो दस साल पहले की तुलना में चौगुना से अधिक है,। इस डाटा के बाद सबसे बड़ा सवाल यह है कि जहां अडानी ₹1002 करोड़ रूपए रोज कमाता है और अंबानी 163 करोड रुपए प्रतिदिन कमाता है। वहां आप यानि देश का आम नागरिक कितनी आमदनी कर पाता है।
हुरून ग्लोबल रिच लिस्ट ने 237 अरबपतियों के बारे में तो बता दिया पर क्या कोई डाटा ऐसा है जो यह दिखाए कि पिछले 8 सालों में कितने नागरिक मिडिल क्लास से लोअर क्लास या लोअर मिडल क्लास तक पहुंच गए हैं। क्या कोई ऐसा डाटा है जो यह दिखाएं कि एक आम आदमी प्रतिदिन जो पहले कमाई करता था उससे अब वह कितना कम हुआ है। यदि आप इसी के साथ हंगर डाटा इंडेक्स की बात करें तो वहां भी भारत अव्वल स्थान पर ही पाया जाएगा। यदि आप भारत के आम नागरिक की आमदनी में इजाफा देखें तो वह भी शायद में ही आएगा।
इन आंकड़ों से यह बात साफ हो चुकी है कि अमीर और गरीब के बीच का जो अंतर है उसमें एक भारी लाइन खींच दी गई है। जिसको छु पाना आम नागरिक अपने सपनों का खेल समझता है। जब से बीजेपी सरकार आई है तब से इन गुजरात के स्वर्ण कारोबारियों का अह्वदा और पैसा कितना बढ़ा है यह डाटा भी किसी एजेंसी को प्रस्तुत करना चाहिए। आंकड़ों की माने तो 2014 के पहले का अडानी और 2014 के बाद के अडानी में जमीन आसमान का फर्क आया है। आज अंबानी और अडानी जैसे लोग विश्व के टॉप अमीरों में शुमार हैं और आम आदमी भारत देश का युवा आज भी अपने हक की लड़ाई या अपने हिस्से की रोटी के लिए लड़ाई लड़ रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × 4 =