zeeshan ayyub
Pic courtesy- Nivedita Shandilya

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश में जिस प्रकार से विरोध प्रदर्शन की ख़बरें सामने आ रहीं हैं। उसमें पूर्वोत्तर के राज्यों से प्रदर्शन के दौरान ज्यादा हिंसक भरी घटनाओं की खबरें आ रही है। अभी ताज़ा मामला दिल्ली के जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी (Jamia Millia Islamia) के छात्रों का है जिन्हें शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन के दौरान दिल्ली पुलिस ने बेरहमी से पीटा है।

बता दे कि पिछले तीन दिनों से जामिया के छात्रों पर पुलिस का अत्याचार बढ़ते जा रहा है। जिसमें पुलिस ने हद पार करते हुए रविवार की रात प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर लाठियां, आंसू गैस और गोलियां तक चलाई है। वहीं दिल्ली पुलिस ने जामिया के लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्रों तक को नहीं बख़्शा उन्हें लाइब्रेरी के अंदर कैद किया उन्हें पीटा और उनके ऊपर आंसू गैस और लाठियों से हमला किया।

CM उद्धव ठाकरे बोले- जामिया में छात्र-छात्राओं पर पुलिसिया कार्रवाई ‘जलियांवाला बाग’ जैसी है

जामिया की छात्राओं पर भी दिल्ली पुलिस ने हमला किया और उन्हें शारीरिक तौर पर भी प्रताड़ित किया। बता दें की पुलिस ने उन छात्रों के ऊपर भी हमले किये जो किसी भी प्रकार के विरोध प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए थे।

आज जामिया यूनिवर्सिटी के आसपास पूरे इलाके में एक डर का माहौल हैं। छात्राएं हॉस्टल छोड़ कर अपने रिश्तेदारों या घर को वापस जाने के लिए मजबूर हो गयीं है। जामिया मिलिया के प्रदर्शन कर रहे छात्रों के ऊपर इस तरह की पुलिसिया दमन के विरोध में आज प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में इसके खिलाफ प्रेस वार्ता बुलाई गयी थी। जिसमे पुलिस के हमले से घायल छात्रा और कई प्रोफ़ेसर के साथ फ़िल्म कलाकार और पूर्व ज़ामिया के छात्र ज़ीशान अय्यूब (Actor Zeeshan Ayyub) भी मौजूद थे।

CAB : जामिया छात्रों के समर्थन में उतरे एक्टर जीशान अय्यूब, बोले- लड़ाई जारी रखना, मैं भी आऊँगा

उन्होंने जामिया पुलिस द्वारा हमला किये जाने की घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। ज़ीशान ने कहा, जामिया मै पढ़ा हूँ उससे ज़्यादा मेरे लिए भावनात्मक बात यह है कि मै इसी इलाके में पैदा हुआ और मेरा पूरा खानदान जामिया से पढ़ा है।

उन्होने कहा की सरकार की यह नागरिकता संशोधन क़ानून लोगों को धर्म के आधार पर बांटने की कोशिश करने के लिए लाया गया है। अय्यूब ने मीडिया को बताया कि ‘इस कानून से मुझे ऐसा डर लग रहा है की कोई मेरा घर बांटना चाहता है। क्यूंकि मेरी मां हिन्दू धर्म से ताल्लुक रखती है और मेरे पिता मुस्लिम धर्म से है। इस बिल से मुझे ऐसा लगता है की कोई मेरे मां-बाप को अलग करना चाहता है।’

उन्होंने कहा, मेरी पत्नी खुद हिन्दू धर्म से है जिसको लेकर मेरे ऊपर बीजेपी और उनके संगठन लव जिहाद का आरोप भी लगाते रहे हैं। ज़ीशान ने जामिया के छात्रों पर हुए हमले को लेकर कहा कि यह सरकार लगातार पहले जेएनयू उसके बाद अलीगढ़ और अब जामिया के छात्रों पर इस तरह की कार्रवाई कर रही है। सरकार का मंशा है कि नौजवान पढ़े ना ताकि उनसे कोई सवाल पूछ ना सके। क्यूंकि नौजवान ही इस देश में क्रान्ति ला सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen − 1 =