चार दिन से भारतीय वायुसेना का AN-32 विमान लापता है और साथ ही में उस विमान में सवार 13 लोग भी लापता है। तमाम सर्च ऑपरेशन्स के बावजूद उन्हें ढूंढ़ने में सफलता हासिल नहीं हुई है। लेकिन, यही मोदी सरकार ‘बालाकोट एयर स्ट्राइक’ के समय पाकिस्तान में कितने मोबाइल सक्रिय उसका पता लगा लिया था।

कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भारतीय वायुसेना के विमान AN-32 के लापता होने और उसको अबतक ना ढूंढ पाने पर केंद्र सरकार पर सवाल उठाया है। उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि, “बालाकोट में रात को कितने मोबाइल चल रहे थे, ये हमारी सरकार को पता था। लेकिन तीन दिन से अपने ही देश में एक हवाई जहाज नहीं ढूंढ पा रहे हैं।”

बता दें कि तीन जून से भारतीय वायुसेना का विमान AN-32 लापता है और उसमें यात्रा कर रहे 13 लोगों की खोज में आर्मी से लेकर ISRO की टीमें काम कर रही हैं। लेकिन अभी तक उन सबका कुछ पता नहीं चल पाया है।

भारतीय वायुसेना के इस विमान ने तीन जून को असम के जोरहाट से करीब 12:25 बजे उड़ान भरी थी। उसे 1:30 बजे अरुणाचल प्रदेश के मेचूका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड पर लैंड करना था। लेकिन 1 बजे ये विमान रडार सिग्नल से गायब हो गया। अब चार दिन बीत जाने के बाद भी विमान को खोजा नहीं जा सका है।

बालाकोट में 300 आतंकियों के शव गिनने वाली BJP अब 4 दिन से लापता सेना के विमान पर चुप क्यों है?

ये बड़ा और गंभीर सवाल है कि भारत की सुरक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा की बात करने वाले पीएम नरेन्द्र मोदी इस मामले पर अबतक चुप क्यों हैं? चार दिन से 13 सैनिकों के साथ पूरा का पूरा विमान गायब है लेकिन सरकार और अजेंसियाँ उसका पता नहीं लगा सकी हैं!

क्या राष्ट्रीय सुरक्षा केवल पाकिस्तान पर स्ट्राइक करने से सुनिश्चित की जा सकती है? भारतीय वायुसेना के एक विमान का इस तरह से गायब हो जाना भी राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला है। जिसपर अभी तक सरकार फेल है।