कोरोना वैक्सीन को लेकर किए जा रहे दावों के बीच एक परेशान करने वाली ख़बर सामने आई है। मैक्सिको में फाइज़र की कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद एक महिला डॉक्टर की तबियत गंभीर रुप से बिगड़ गई, जिसके बाद उसे आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा।

मैक्सिको के स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी। बयान में कहा गया कि, मैक्सिको की एक 32 वर्षीय महिला डॉक्टर को दवा निर्माता कंपनी फाइज़र की कोरोना की वैक्सीन लगाई गई थी।

वैक्‍सीन लगाने के आधे घंटे के अंदर ही उनके शरीर में चकत्‍ते पड़ने, ऐंठन, शरीर में कमजोरी और सांस लेने में दिक्‍कत होने लगी। जिसके बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा।

वैक्सीन लगाने के बाद डॉक्टर को हुई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों की जांच की जा रही है। प्राथमिक जांच में इंसेफैलोमाईलिटिस का पता चला है। डॉक्टर की हालत स्थिर है और उसका इलाज फिलहाल जारी है।

बताया जा रहा है कि डॉक्टर को कुछ दवाईयों से अलर्जी संबंधी परेशानी पहले भी रही है। इस एलर्जी की वजह से लोगों के शरीर पर धारियां पड़ जाती हैं और कई बार मौत भी हो जाती है।

बता दें कि मैक्सिको में इस महामारी के कारण अब तक 1.26 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसा नहीं है कि कोरोना वैक्सीन को लेकर ये पहली बुरी ख़बर है।

पहले अमेरिका के कैलिफोर्निया में फाइजर की कोरोना वायरस वैक्‍सीन लगवाने के एक हफ्ते बाद ही मैथ्‍यू डब्‍ल्‍यू नाम का स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिट‍िव हो गया था। उसने 18 दिसंबर को वैक्‍सीन लगवाई थी और फेसबुक पर पोस्‍ट कर इस बात की जानकारी दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four − four =