आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नामांकन रैली में खर्च किए गए पैसों को लेकर चुनाव आयोग में शिकायत की है। उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कहा है कि पीएम मोदी की नामांकन रैली में नियमों का उल्लंघन कर पैसे खर्च किए गए हैं, जिसके लिए पीएम मोदी को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित किया जाए।

संजय सिंह ने अपने पत्र में दावा किया कि पीएम मोदी की नामांकन रैली में 1 करोड़ 27 लाख रुपए खर्च किए गए हैं, जो चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित 70 लाख की खर्च सीमा से कहीं ज़्यादा है। उन्होंने चिनाव आयोग से अपील करते हुए कहा कि नियमों की अनदेखी करने के लिए पीएम मोदी को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित किया जाए।

बम धमाकों के लिए श्रीलंका के PM ने मांगी माफी, PM मोदी पुलवामा के लिए कब मांगेंगे माफी ?

आप सांसद ने अपने पत्र में पीएम मोदी की नामांकन रैली के खर्च का ब्यौरा भी दिया है। संजय सिंह के मुताबिक, निजी विमान के उपयोग में करीब 64 लाख रुपए खर्च किए जाने का अनुमान है। बता दें कि निजी विमानों से NDA के कई कद्दावर नेता वाराणसी पहुंचे थे। जिनमें प्रकाल सिंह बादल, रामविलास पासवान, नीतीश कुमार, उद्धव ठाकरे का नाम प्रमुख है।

इसके साथ ही पत्र में पीएम मोदी की रैली में पहंचे 100 से ज़्यादा नेताओं की विमान यात्रा का खर्च 15 लाख रुपए बताया गया है और 2000 कार्यकर्ताओं की ट्रेन यात्रा का खर्च 20 लाख रुपए माना गया है। होटलों में नेताओं और कार्यकर्ताओं के प्रबंध का खर्चा 8 लाख और रैली में इस्तेमाल हुए वाहनों का खर्च 6 लाख रुपए बताया गया है।

इसके अलावा पत्र में प्रचार सामग्री और रैली में खाने के पैकेट्स का खर्च 10 लाख रुपए माना गया है। स्टेज एवं साऊंड सिस्टम और सोशल मीडिया पर प्रचार का खर्च दो-दो लाख रुपए बताया गया है।

PM मोदी का इंटरव्यू 3 पत्रकार लेने जाते है मगर काउंटर सवाल कोई नहीं करता, माजरा क्या है? : सर्वप्रिया

पत्र में कहा गया है कि इस हिसाब से नामांकन रैली का कुल खर्च 1 करोड़ 27 लाख रुपए होता है जो 70 लाख रुपए की सीमा से कहीं ज़्यादा है। आप नेता ने चुनाव आयोग से निवेदन करते हुए कहा कि इस सूचना के आधार पर खर्चों की जांच कराएं और लोक प्रतिनिधि कानून के तहत पीएम मोदी को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित करें।