पतंजलि के मालिक बाबा रामदेव केंद्र की मोदी सरकार की तारीफ में ‘बिछ’ जाते है। रामदेव बीजेपी की तारीफ सौ कदम आगे जाकर करते हैं। बाबा नरेन्द्र मोदी और बीजेपी की इतनी तारीफ करते हैं कि, तारीफ शब्द भी छोटा पड़ जाए। बाबा रामदेव कांग्रेस को पानी पी-पीकर कोसते हैं! इसकी क्या वजह है? ये जानने से पहले रामदेव के कुछ बयान देखिए जो उन्होंने 2012 से लेकर 2014  पहली मोदी सरकार बनने तक दिए थे।

बाबा रामदेव के बयान:        

“काला धन वापस आने पर एक-एक गांव को विकास के लिए 200 करोड़ रुपये मिलेंगे, तो हमारा एक-एक गांव ब्रिटेन और अमेरिका से ज्यादा बेहतर होगा।”  

“मोदी सरकार में सौ दिन में वापस आएगा काला धन। हम तभी दम लेंगे जब काला धन वापस आ जाएगा और देश में मजबूत लोकपाल बन जाएगा।”

“भ्रष्टाचारियों को सजा दिलाने के लिए लोकपाल की जरुरत है। साथ ही सीबीआई,सीवीसी सीएजी और सीईसी की नियुक्ति की प्रक्रिया पारदर्शी होनी चाहिए।”       

“मोदी जी में वो विराट संकल्प व समर्थन नेतृत्व की क्षमता है, इसीलिए मेरे करोड़ो कार्यकर्ताओं का समर्थन उनके साथ है।”  

टैक्स चोर निकले रामदेव! पतंजलि पर नियमों का उल्लंघन कर 176 करोड़ की मुनाफाखोरी का लगा आरोप
बाबा रामदेव अपने इन सभी बयानों में काला धन वापस लाने, लोकपाल बनाने, सीबीआई की स्वतंत्रता की वकालत कर रहे हैं। वो ये दावा कर रहे हैं कि इन सब्भी समस्यओं का समाधान इस देश में नरेन्द्र मोदी ही कर सकते हैं। लेकिन मोदी सरकार का ये दूसरा कार्यकाल है अभी तक देश में न काला धन आया, न लोकपाल बना और न ही सीबीआई की स्वतंत्रता बची है।

बाबा रामदेव यहीं हैं। वो सरकार के समर्थन से देश के एक बड़े उद्योगपति बन गए हैं। इस दौरान रामदेव बदल गए वो अरबपति हो गए, उनके बयान बदल गए। मगर जो कुछ नहीं बदला वो भारत के गांव ब्रिटेन और अमेरिका नहीं बने, भारत के गांवों को 200 करोड़ रुपये नहीं मिले। देश में पेट्रोल 35 रुपये लीटर नहीं बिक रहा। काला धन देश से नहीं आया।

रामदेव बोले- मोदी के हाथों में देश सुरक्षित है, लोग बोले- देश नहीं बाबा का ‘कारोबार’ सुरक्षित है

मगर रामदेव है कि अभी भी मोदी सरकार की तारीफ किए जा रहे हैं। अब इसीलिए बाबा रामदेव को लोग देश का ‘ठग’ कह रहे हैं। ट्वीटर पर ‘रामदेव ठग है’, ‘ShutdownPatanjali’, और ‘BycottPatanjaliProducts’ ट्रेंड कर रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने बाबा रामदेव के बारे में कहा कि, “उन्होंने योग के नाम पर लोगों को इकट्ठा किया और सारा वोट बीजेपी की झोली में डाल दिया। फिर सारे वादे भूल गए। आपने योग करने वाले करोड़ों लोगों के वोट बीजेपी को सौंप दिए?”

बाबा रामदेव की बीजेपी के साथ सरकार में करीबी का नमूना झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन ने देते हुए ट्वीट कर कहा कि, “पिछले साल पहले करोड़ो की लगत से एग्रो समिट कर झारखंड सरकार ने उन्हें मुख्य अथिति बनाया। उन्होंने सौ करोड़ के इन्वेस्टमेंट की बात कही, करोड़ों की जमीन दे दी राज्य सकरार ने औने पौने दाम पर इन्होने आज तक नहीं लगाई झारखंड में।” झारखंड में बीजेपी की रघुबर दास की सरकार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four + six =