• 1.8K
    Shares

लोकसभा चुनाव करीब आते ही मोदी सरकार ने रेलवे में खाली पदों को भरने का ऐलान किया है। सरकार बनने के बाद बढ़ती बेरोजगारी से जनता परेशान थी।

अब जब चुनाव करीब आया तो सरकार ने नौकरी देने की बात करते हुए जनता को लुबाने की कोशिश है। पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने 4 लाख भर्तियां करने संबंधी घोषणा को ‘एक और जुमला’ बताया है।

रक्षा मंत्री ने कहा- मोदीराज में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ, चिदंबरम बोले- उरी और पठानकोट क्या भारत के नक़्शे में नहीं है

चिदंबरम ने सोशल मीडिया पर लिखा, रेलवे में करीब 5 साल से 2,82,976 पद रिक्त हैं और सरकार अचानक से जागती है और कहती है कि हम इसे तीन महीने में भरेंगे। ये एक और जुमला है। कई सरकारी विभागों की यही कहानी है। एक तरफ खाली पद हैं और दूसरी तरफ बेरोजगार युवा हैं।

ऐसा पहली बार नहीं है जब चिदंबरम ने मोदी सरकार के किसी फैसले पर हमला बोला हो। इससे पहले चिदंबरम ने किसानों के न्यूनतम समर्थन मूल्य देने पर का था कि मोदी सरकार में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) विफल रहा है। कृषि उपज की सरकारी खरीद की कोई व्यवस्था नहीं है।

एक राष्ट्र के तौर पर हमें अपने किसानों के लिए कम से कम उतनी आय की व्यवस्था सुनिश्चित करनी चाहिए कि वे कृषि क्षेत्र में बने रहें।

रेल कर्मचारियों से भिड़े रेलमंत्री पीयूष गोयल: कर्मचारियों ने हाथ में गमला लेकर दौड़ाया, जान बचाकर भागे मंत्री

बता दें कि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि रेलवे अगले दो सालों में 4 लाख लोगों को नौकरी के अवसर देने जा रहा है। उनके मुताबिक पहले चरण की भर्ती इसी साल मार्च-अप्रैल में की जाएगी और दूसरे चरण की अगले साल मई-जून में होगी।