delhi
Delhi Violence
मुकुल सिंह चौहान

Delhi Violence: भीड़ जब हिंसक हो जाती है तो वो इंसान नहीं रहती उसकी इंसानियत खत्म हो जाती है, सारी गणित बस नुकसान करने तक सीमित हो जाती है। शायद दिमाग काम करना बंद कर देता है वरना प्यार से रहने वाले लोग किसी नेता या दंगाई के भड़का देने से भड़क कैसे सकते हैं?

इस तस्वीर को देखिये और सोचिये की अभी भयानक और किसी भीड़ की कुंठा का शिकार ये तस्वीर कभी कितनी खूबसूरत रही होगी। यही तस्वीर कभी भारत की गंगा जमुनी तहज़ीब का जीता जागता प्रमाण रही होगी। यही तस्वीर कभी किसी विदेशी को भारत की संस्कृति समझाने का उदाहरण रही होगी।

तस्वीर जिसमें शिवा और त्यागी की दूकान के बीच में ज़ुल्फ़िकार की दुकान है, तस्वीर जिसमें कभी ज़ुल्फ़िकार त्यागी तो कभी शिवा ज़ुल्फ़िकार की दुकान में चाय पीते होंगे और अपने सुख दुख बाँटते होंगे।

दंगे कभी अपने आप नहीं होते, करवाए जाते हैं, प्रशासन के सहयोग से हिंसा भड़काई जाती है : पूर्व IAS

आज ये तस्वीर इस बात की गवाही दे रही है की उन्मादी भीड़ कितनी खतरनाक होती है वो प्यार और भाईचारे जैसे शब्दों से कोसों दूर हो जाती है। उन्मादी भीड़ को लोगों के लहू का रंग इंद्रधनुषी लगने लगता है। उसे ये खून अपनी कुंठा की प्यास को बुझाने का जरिया लगने लगता है। ये भीड़ इतनी खतरनाक होती है की इसे किसीकी जान लेने में एक पल नहीं लगता ये भीड़ एक शब्द में ‘हत्यारी’ होती है।

इसी हत्यारी भीड़ ने अब तक दिल्ली में 1 हेड कांस्टेबल (Constable Ratan Lal) समेत 16 अन्य लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इसी हत्यारी भीड़ ने कितने ही घरों के चराग बुझा दिए कितनी माओं की गोद सूनी कर दी, कितनी पत्नियों को बेवा कर दिया कितने ही घरों की रोज़ी रोटी छीन ली।

गुजरात-मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपियों की तरह अब कपिल मिश्रा भी Z सिक्योरिटी पाएगा, मंत्री बनेगा

दिल्ली के हालात सामान्य होने तक ऐसी न जाने कितनी तस्वीरें आनी हैं पर उम्मीद पर दुनिया कायम है तो हम भी उम्मीद करते हैं की ये तस्वीर आखिरी हो। शिवा, ज़ुल्फ़िकार के यहां फिर से चाय पिए और ज़ुल्फ़िकार, त्यागी के यहां जाकर अपने सुख दुःख बांटे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 16 =