• 26.6K
    Shares

सरदार पटेल की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ युनिटी’ के अनावरण के साथ ही बीजेपी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का बिगुल फूंक दिया है।

बीजेपी के कई फायरब्रांड नेता चुनावी समर में राम मंदिर के नाम पर हिंदू वोटों को साधने में जुट गए हैं। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साफ़ कर दिया है कि दिवाली के बाद से ही मंदिर निर्माण का कार्य शुरु हो जाएगा।

बीजेपी की मूर्ति और मंदिर की इस राजनीति पर दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आम आदमी पार्टी (आप) प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने प्रतिक्रिया दी है।

उन्होंने सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के दौरान कहा कि मंदिर-मस्जिद और स्टैच्यू बनवाने से देश की तरक्की नहीं होगी। केजरीवाल ने कहा कि देश की तरक्की हॉस्पिटल, स्कूल और सिग्नेचर ब्रिज बनाने से होगी।

खट्टर को केजरीवाल की चुनौती, बोले- तुम मोहल्ला क्लिनिक आओ मैं तुम्हारे अस्पताल, देखें कौन बेहतर है

केजरीवाल ने पंडित जवाहर लाल नेहरू की तारीफ़ करते हुए कहा, देश सौभाग्यशाली है कि जवाहरलाल जैसा पहला प्रधानमंत्री मिला। नेहरू ने एक विज़न के साथ देश की नींव रखी। उन्होंने आईआईटी, बीएचईएल और कई इंस्टीट्यूट बनवाए। पंडित नेहरू भी अगर मंदिर और स्टैच्यू बनवाते तो देश तरक्की नहीं करता।

केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए केजरीवाल ने कहा कि मोदी सरकार ने देश को मंदिर और स्टेच्यू में उलझा दिया है। अगर ये मंदिर या मस्जिद बनाते रहे तो आपको अपने बेटे को मंदिर में पुजारी बनाना पड़ेगा।

सिग्नेचर ब्रिज : मनोज तिवारी ने पुलिस से की मारपीट, कहा- 4 दिनों में पुलिस को सबक सिखाऊंगा

इसके साथ ही केजरीवाल ने कहा कि यदि विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अनुसंधान के ऊपर मंदिरों और मस्जिदों को तरजीह दी गई तो देश 15वीं सदी में पड़ा रहेगा। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि देश की तरक्की के लिए मंदिर-मस्जिद की सियासत से ऊपर उठें।