पिछले महीने सोशल मीडिया पर एक लॉ छात्रा का वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें छात्रा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर शारीरिक शोषण करने का आरोप लगाया था। छात्रा ने ये भी कहा था कि चिन्मयानंद से उसे और उसके परिवार को खतरा है। मामला सोशल मीडिया पर आने के बाद कोर्ट पहुंचा जहां अब पीड़िता ने चिन्मयानंद का काला चिट्टा खोलकर रख दिया है।

पीड़िता ने कोर्ट में बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने ब्लैकमेल कर रेप किया है। पीड़िता का हॉस्टल के बाथरूम में नहाने का वीडियो बनाया गया और उस वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर एक साल तक रेप करता रहा।

इसके साथ ही चिन्मयानंद ने शारीरिक शोषण का वीडियो भी बनाया और पीड़िता से मसाज करने का भी दबाव बनाता था, और कई बार उसके साथ बंदूक के दम पर भी रेप हुआ है। लड़की ने भी अपने बचाव के लिए चिन्मयानंद का वीडियो बनाया है। लड़की ने इसके लिए अपनी चश्मे में खुफिया कैमरा लगाया और चिन्मयानंद का वीडियो बनाया है।

पीड़िता ने बताया कि मैं वहां पढ़ने के लिए गई थी मगर चिन्मयानंद ने उसे नौकरी ही दे दी। नौकरी में काम का ज्यादा बोझ होने पर उसने हॉस्टल में रहना ठीक समझा जहां उसके साथ गलत हुआ।

वहीं इस मामले में बीजेपी की महिला नेताओं की चुप्पी पर समाजवादी पार्टी (सपा) की नेता प्रीति चौबे ने ट्विटर पर लिखा, चोला पहना है भगवा धारी का कार्य कितने घृणित है वो भी शिक्षा जैसे स्थान पर! बलात्कारी कहीं का! पूरी महिला मंत्री मंडल चुप्पी साधे हुए है, मंत्री सांसद स्मृति ईरानी जी आज बेटी के लिए गुस्सा नहीं फूट रहा, UP की तमाम महिला मंडली जो आज मंत्री पदों पर कार्यरत है, आज अंतरात्मा मर गयी है?

क्या आरोप लगाए थे छात्रा ने

गायब हुई छात्रा ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी करते हुए प्रधानमंत्री मोदी और सीएम योगी से न्याय की गुहार लगाई थी। इस वीडियो में पीड़िता ने स्वामी पर गंभीर आरोप लगाया था। वीडियो में उसने कहा था, ‘संत समाज का एक बहुत बड़े नेता ने मेरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी है। वो कहता है कि वो पुलिस, डीएम को जेब में रखता है। मेरे पास उस संन्यासी के खिलाफ साक्ष्य (सबूत) हैं। उसने कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी है।