• 4K
    Shares

बुलंदशहर के स्याना गांव में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की उग्र भीड़ द्वारा की गई हत्या के बाद सूबे की योगी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव के बाद अब बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस घटना के लिए बीजेपी को ज़िम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकारों द्वारा अराजकता को संरक्षण देने का परिणाम है कि अब कानून के रखवाले भी बलि चढ़ रहे हैं। यह अति-दुख और चिन्ता की बात है। मायावती ने मंगलवार को एक बयान जारी करते हुए इस घटना पर गहरा दुख और संवेदना व्यक्त की।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा और उसकी सरकारों को उसके ही द्वारा उत्पन्न किए गये भीड़तंत्र के हिंसक और अराजक राज को खत्म करने के लिए देश और प्रदेशों में कानून का राज स्थापित करने का पूरी ईमानदारी से प्रयास करना चाहिए ताकि देश के संविधान व लोकतंत्र को भीड़तंत्र की बलि चढ़ने से रोका जा सके।

बुलंदशहरः वीडियो में पता चला गाय काटने वाले का नाम, केजरीवाल बोले- क्या BJP ने ख़ुद गाय काटकर दंगा करवाया?

मायावती ने कहा कि परिवारों को केवल समुचित अनुग्रह राशि देना ही प्रदेश सरकार के लिए काफी नहीं होना चाहिए, बल्कि इस हिंसा के लिए सभी दोषियों को सख्त से सख्त सजा समय पर दिलाना भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए ताकि देश को ऐसा महसूस हो कि उत्तर प्रदेश में कोई सरकार भी है।

इससे पहले अखिलेश ने ट्विटर के ज़रिए कहा, “बुलंदशहर में पुलिस व ग्रामीणों के संघर्ष में स्याना कोतवाल सुबोध कुमार सिंह की मौत का समाचार बेहद दुखद है। भावपूर्ण श्रद्धांजलि। उप्र भाजपा के शासनकाल में हिंसा और अराजकता के दुर्भाग्यपूर्ण दौर से गुज़र रहा है”।

बता दें कि बुलंदशहर की स्याना तहसील में सोमवार की सुबह कथित गोवंश हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रही भीड़ की पुलिस से हिंसक भिड़ंत हो गई थी।

जब ‘कानून’ का राज खत्म होता है तो कानून के रखवाले भी सुरक्षित नहीं रहते : पुण्य प्रसून

इसमें भीड़ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या कर दी थी और पुलिस चौकी में आग लगा दी थी। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया जा चुका है।