• 55.4K
    Shares

शराब पीने से हो सकता है कि लोगों की जान ज्यादा जाए। इसकी वजह यह है कि लोगों को सरकार ने लालच दिया है कि गाय की सेवा अच्छी तभी होगी, जब आप शराब ज्यादा पिएंगे। लेकिन हमारे गरीब लोगों को यह नहीं पता, उन्हें पीनी कौन (शराब) सी है।

योगी सरकार को यह सब पता है और वह शराब पीने वालों को बढ़ाना चाहती है। सरकार को यह भी पता है कि कौन ऐसी शराब (जहरीली) बना रहा है। ये बयान है पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का जिन्होंने राज्य में जहरीली शराब के कारण मरने वालों की संख्या पर सीएम योगी पर तंज कसा।

दरअसल पूरे उत्तर प्रदेश में ज़हरीली शराब से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ज़हरीली शराब की वजह से अबतक सबसे ज्यादा मौतें सहारनपुर में हुई है जहां करीब 36 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जबकि मेरठ में 18, रूड़की में 20, कुशीनगर में 8 और मेरठ में 18 लोगों की मौत ज़हरीली शराब पीने की वजह हुई।

योगी ने ‘मुजफ्फरनगर दंगों’ के आरोपियों को माफ़ करने के दिए आदेश, लोग बोले- एक दंगाई CM से और क्या उम्मीद करें

मगर जब सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से ये सवाल किया गया तो उन्होंने इस मामले में चुप्पी साध ली और कुछ कहने से बचते रहें। जबकि उन्ही की कैबिनेट में मौजूद और शराबबंदी की मांग करने वाले ओम प्रकाश राजभर ने इस मामले पर एक्शन भी लेना शुरू कर दिया है। जबकि ऐसा नहीं है की योगी सरकार ने ज़हरीली शराब कार्रवाई नहीं कर रही है।

यूपी पुलिस ने अवैध रूप से शराब निर्माण चलाने वाले जगहों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। बस्ती में जहां अवैध शराब के 1,600 बॉक्स को जब्त किये गए है। वहीं बांदा सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में छापे मारे गए हैं जहां बड़ी मात्रा में अवैध शराब जब्त की गई।

योगी सरकार ने कुशीनगर में जहां ज़हरीली शराब पीने के कारण कुल 8 लोगों की मौतें हुई है वहां के डिस्ट्रिक्ट एक्साइज ऑफिसर और डिस्ट्रिक्ट एक्साइज इंस्पेक्टर के साथ कई अन्य को पहले ही निलंबित कर दिया है।

योगी के मंत्री बोले- ‘हिंदू-मुस्लिम’ एकजुट और सतर्क रहें क्‍योंकि BJP अब दंगों के मूड में है याद रखिए ‘दंगों’ में कोई नेता नहीं मरता

ज़हरीली शराब पीकर जान गवाने वालों पर सीएम योगी की चुप्पी पर शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने सोशल मीडिया पर तंज कसा है। इमरान ने सोशल मीडिया पर लिखा, इंसानों की जान की क़ीमत जानवर से भी कम