बिहार के मुजफ्फरपुर में इस बुखार से मरने वालों की संख्या बढ़कर 108 हो गई है। मगर मुजफ्फरपुर के सांसद का कहना है कि ये बीमारी उन्हीं को हो रही है जो गरीब तबके से आते हैं। ज्यादार अनुसूचित जाति के होते हैं, उनका रहन-सहन का स्तर बहुत नीचे है। उसको भी ऊपर उठाने की जरूरत है।

उन्होंने ये भी कहा कि चमकी बुखार के लिए 4जी जिम्मेदार है। गांव, गर्मी, गरीबी और गंदगी को बीजेपी सांसद ने 4जी बताया और कहा कि अति पिछड़ा समाज के लोग इस बीमारी से ताल्लुक हैं, उनका रहन-सहन नीचे है, बच्चे बीमार हैं।

बीजेपी सांसद के बेतुके बयान पर पत्रकार ने लिखा- मुजफ्फरपुर से बीजेपी के सांसद अजय निषाद ने इस बीमारी के पीछे 4जी का थ्येारी दिया है। उनके अनुसार 4जी- गरीबी,गंदगी,गर्मी और गांव के कारण ऐसा हो रहा है। महाशय दो बार से और उनके पिता कई बार वहां सांसद रह चुके हैं। अपना रिपोर्ट कार्ड बड़े गर्व से दे रहे हैं।

लेकिन बेफिक्र निषाद जी की कोई गलती नहीं है। जनता ने यह मानते हुए वोट दिया है कि उन्हें लोकल मुद्दों या सरकारों से कोई मतलब नहीं है।

बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर में सैकड़ों बच्चे एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार की चपेट में हैं। मुजफ्फरपुर में इस बुखार से मरने वालों की संख्या बढ़कर 108 हो गई है, वहीं अस्पतालों में भर्ती बीमार बच्चों की संख्या 414 बताई जा रही है है। अबतक सिर्फ मुजफ्फरपुर के सरकारी श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में ही 89 मौत हो चुकी है।

फोटो साभार- ANI