गौरक्षकों का आतंक खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा। आए दिन गौरक्षा के नाम पर उग्र हिंदुत्ववादी भीड़ अल्पसंख्यों को निशाना बना रही है। ताज़ा मामला मध्य प्रदेश के खंडवा ज़िले से सामने आया है। जहां गौरक्षों ने गायों की तस्करी के शक में 24 लोगों को रस्सी से बांधकर बेरहमी से पीटा।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, रविवार सुबह 4:30 बजे खालवा इलाके के सावलीखेड़ा गांव के पास एक पिक-अप वाहन पर तकरीबन दो दर्जन लोग कथित तौर पर अवैध रूप से 24 गोवंश ले जा रहे थे। तभी वहां भीड़ पहुंच गई और उन्हें पकड़ लिया। भीड़ ने गोवंश ले जा रहे लोगों को रस्सी से बांध दिया और उनकी पिटाई करने लगे। इस दौरान पीड़ितों से गौ-माता की जय के नारे भी लगवाए गए। जिसे वीडियो में देखा जा सकता है।

मामले का जो वीडियो सामने आया है उसमें इन गोवंश ले जा रहे लोगों को भीड़ एक कतार में ले जाते हुए और उनकी पिटाई करते हुए दिख रही है। आरोपी खंडवा, सीहोर, देवास और हरदा जिलों से आये 24 लोग थे, जिनमें छह मुस्लिम भी शामिल थे। उन्हें थप्पड़ भी मारे गये और और रस्सियों से बांधकर थाने तक पहुंचाया गया।

वहीं गांववालों का कहना है कि उन्हें बहुत पहले से जानकारी मिल रही थी कि सावलीखेड़ा गांव के पास से गौ तस्करी के लिए गौवंश को ले जाया जाता है। इसी के मद्देनज़र उन्होंने पहले गोवंश को मुक्त कराया और कथित तौर पर उनकी तस्करी करने वाले आरोपियों को खालवा पुलिस के हवाले कर दिया।

खालवा पुलिस ने सभी पशुओं के स्वास्थ्य परीक्षण कर खार कला की गौ शाला में पहुंचा दिया है और आरोपियों के खिलाफ गौवंश अधिनियम के तहत केस दर्ज कर लिया गया है। हालांकि रस्सी से बांधकर पिटाई करने वाली भीड़ के खिलाफ पुलिस ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है।

खंडवा जिले के पुलिस अधीक्षक डॉ. शिवदयाल सिंह के मुताबिक पशु ले जाते पकड़े गए लोगों का दावा है कि वे मवेशियों के मालिक हैं और उन्हें महाराष्ट्र से सटे पशु मेले में ले जा रहे थे। लेकिन 24 में से किसी के पास भी अपने दावों को साबित करने के लिये वैध दस्तावेज नहीं थे।

फोटो साभार- ANI